विजन

हरियाणा वन विभाग के विजन

हरियाणा राज्य वन नीति-2006 के बुनियादी उद्देश्य इस प्रकार हैं :-

पर्यावरणीय स्थिरता और वन, जंगल और पानी की गंभीर कमी से प्रभावित पारिस्थितिकी के संतुलन की बहाली के रखरखाव के लिए वनरोपण।

दुर्लभ प्रजाति के आनुवंशिक संसाधन आधार युक्त राज्य के प्राकृतिक वनों में संरक्षित जैव विविधता।

संरक्षित क्षेत्रों में निवास स्थान के विकास और संरक्षण।

जंगलों में जल संसाधन का संरक्षण एवं विकास।

जंगलों के अनाच्छादन की जाँच।

आनुवंशिक रूप से बेहतर पौध और बेहतर प्रबंधन के तरीकों का उपयोग करके स्थायी रूप से लोगों की आवश्यक जरूरतों को पूरा करने के लिए वनों की उत्पादकता बढ़ाना।

मृदा और जल संरक्षण के लिए नदियों, नालों और जलाशयों के जलग्रहण में मिट्टी के कटाव की जाँच।

उन क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे को बचाने के लिए राज्य के अर्द्ध शुष्क क्षेत्रों में रेत के टीलों के विस्तार की जाँच।

वनीकरण तकनीक द्वारा स्वामित्व की परवाह किए बगैर नमक प्रभावित क्षेत्रों की बहाली।

वनीकरण और सामाजिक वानिकी कार्यक्रमों के माध्यम से राज्य में बंजर भूमि पर वृक्ष आच्छादन को बढ़ाना।

कृषि वानिकी को बढ़ावा देने के द्वारा गैर वन भूमि से औद्योगिक लकड़ी का उत्पादन।

वनोपज के कुशल उपयोग को प्रोत्साहित करना और लकड़ी के विकल्प को बढ़ावा देना।

इन उद्देश्यों को प्राप्ति और प्राकृतिक वनों पर दबाव कम करने के लिए, महिलाओं और स्कूली बच्चों की भागीदारी के साथ एक विशाल जन आंदोलन तैयार करना।

संयुक्त वन प्रबंधन और वानिकी गतिविधियों में भाग लेने के लिए गांव स्तर पर संस्थाओ का निर्माण।

वानिकी आधारित और अन्य आय सृजन गतिविधियों के माध्यम से उनके सशक्तिकरण के लिए विशेष रूप से महिलाओं के स्वयं - सहायता समूहों का गठन।

औषधीय पौधों का संरक्षण एवं विकास।

पारिस्थितिकी पर्यटन का विकास।

वन उपज की कीमतों को स्थिर करने के लिए इमारती लकड़ी के बाजारों का विकास।