चिंकारा ब्रीडिंग सेंटर,कैरू

चिंकारा प्रजनन केंद्र कैरू, भिवानी जिले के भिवानी-बहल रोड पर कैरू में स्थित है, व 28 ° 40'N अक्षांश और 75 ° 56'E देशांतर के बीच स्थित है। सीबीसी कैरू प्राकृतिक मिश्रित वन के एक खंड में, वर्ष 1985 में एक हिरण पार्क के रूप में शुरू किया गया है। प्रारंभ में, प्राकृतिक निवास स्थान से 10 चिंकारा उन्हें निश्चित संरक्षण प्रदान करने के लिए 60 एकड़ बाड़ युक्त क्षेत्र में छोड़े गये। हरियाणा के विभिन्न् स्थाचनों से बचाये गए पशु भी सीबीसी कैरू में रखे जाते हैं।

सीबीसी कैरू, कैरू बस स्टैं ड से 1 किमी तथा भिवानी रेल्वेड स्टेाशन से 35 किमी दूर है। ब्रीडिंग सेंटर दिल्ली, चंडीगढ़, जयपुर और अन्य महत्वपूर्ण शहरों से सड़क मार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। प्रजनन केंद्र के चारों तरफ सड़कों का अच्छा नेटवर्क है। निकटतम हवाई अड्डा दिल्ली है जो ब्रीडिंग सेंटर से 150 किलोमीटर दूर है। आसपास के महत्वपूर्ण चिड़ियाघरों में मिनी चिड़ियाघर भिवानी, रोहतक चिड़ियाघर, एनजेडपी दिल्ली, एम. सी. प्राणी उद्यान छतबीर और जयपुर चिड़ियाघर हैं।

सीबीसी कैरू निम्नलिखित उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए स्थापित किया गया है:

  1. सामान्य लोगों के बीच संरक्षण, शिक्षा और जागरूकता पीढ़ी तैयार करना तथा जानवर और इंसान के बीच एक स्वस्थ संबंध विकसित करना।
  2. आगंतुकों के लिए शिक्षा और मनोरंजन हेतु जानवरों का प्रदर्शन।
  3. बचाये गए, जब्त, अपंग, घायल, अनाथ और बीमार जंगली जानवरों के लिए एक सुरक्षित निवास उपलब्ध कराना।
  4. हरियाणा की चिंकारा प्रजाति के जीन पूल को बनाए रखने के लिए।
  5. तत्काल और आसन्न खतरे से चिंकारा प्रजाति के जीवन को बचाने के लिए।
  6. पालन की हर संभव मानवीय विधि, कैद में रखरखाव, पशु चिकित्सा और अन्य देखभाल प्रदान करने के लिए।
  7. चिंकारा प्रजाति की पारिस्थितिकी और व्यवहार के विभिन्न पहलुओं पर अनुसंधान के लिए।

रखरखाव

ब्रीडिंग सेंटर और पशुओं का रखरखाव सामान्य रूप से अच्छा है। ब्रीडिंग सेंटर एक निरीक्षक वन्यजीव और एक उप निरीक्षक वन्यजीव द्वारा देखा जाता है जो संभागीय वन्यजीव अधिकारी, हिसार के नियंत्रण में हैं।

केवल चिंकारा प्रजाति ही प्रजनन केंद्र में रखा जाता है जो वन्य जीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 की अनुसूची – एक के अंतर्गत आता है। पशुओं को बाड़ से घिरा 24 हेक्टेयर वन क्षेत्र में रखा जाता है।

पशु प्राकृतिक चारे पर निर्भर रहते हैं। कमजोर अवस्थाि में जानवरों को उनके पूर्ण आहार के साथ दिन में दो बार (सुबह और शाम) खिलाया जाता है। प्रजातियों के लिए भोजन एक रोगाणुरहित सतह पर भोजन कक्षों में प्रदान की जाती हैं। हालांकि, जानवरों को भोजन समय के अतिरिक्त एक कठोर सतह पर रहने की अनुमति नहीं है। सामाजिक समूहों में रहने वाले जानवरों के लिए, कमजोर और युवा जानवरों की निगरानी करने के लिए चारा आवश्यक रूप से कई स्थानों पर रखा जाता है। 2 वर्गों के साथ एक बड़ा बंद प्रदर्शन चिंकारा बाड़ा है और एक छोटा प्रदर्शन (1 हेक्टेयर) चिंकारा बाड़ा (6-8 जानवर) शैक्षिक संकेत आदि और सामने की ओर जनता सुविधाओं के साथ उपलब्ध है।

आवश्यकता पड़ने पर स्थानीय पशु चिकित्सक और कर्मचारी तुरन्त उपलब्ध हैं। कोई स्थायी पशु चिकित्सा स्टाफ यहाँ नहीं है। लेकिन बंदी चिंकारा के स्वास्थ्य की जाँच स्थानीय पशु चिकित्सक के माध्यम से नियमित अंतराल पर करने की व्यवस्था है। यहां कोई पशु चिकित्सा यूनिट, अस्पताल, प्रयोगशाला उपकरण आदि नहीं है।

चिंकारा के लिए खाद्य भंडार और खाद्य आपूर्ति प्रणाली अच्छे और पर्याप्त हैं। प्रत्येक पशु प्रजातियों को भोजन, मुख्य वन्यरजीव प्रबंधक, हरियाणा द्वारा निर्धारित सारणी के अनुसार दिया जाता है। अच्छी गुणवत्ता का भोजन दिया जाता है जिसे नियमित रूप से जाँच की जाती है। कभी कभी पशु चिकित्सा सर्जन के पर्चे के अनुसार तथा आवश्यकता के अनुरूप विशेष भोजन भी दिया जाता है। एक अच्छा भंडार कक्ष अलग से जल्द ही बनाये जाने की आवश्यकता है जैसा कि वर्तमान भंडार कक्ष अपर्याप्त है और इसे उपयुक्त बनाने के लिए भारी रखरखाव की आवश्यकता है।

भोजन आपूर्ति स्वच्छ और उच्च गुणवत्ता की है। प्रजातियों तथा व्य क्तिगत पशु के लिए पोषक तत्वों की कमी या विशिष्ट जरूरतों से बचने के लिए अलग से पशु चिकित्सा सर्जन (व्ही‍ एस) के पर्चे के अनुसार उचित आहार दिया जाता है। प्रजनन केंद्र में जानवरों के सामान्य स्वास्थ्य को ठीक से बनाए रखने के लिए स्वच्छता प्रणाली रखी गई है। बाड़े और आसपास के क्षेत्र को नियमित रूप से साफ किया जाता है, मलबे को बाहर किया जाता है और नियमित रूप से जला दिया जाता है।

ठोस और तरल कचरे का निपटान

केंद्र को स्वच्छ और साफ बनाए रखने के लिए यह नियमित रूप से निकाला जाता है और सुरक्षित जगह में जला दिया जाता है। बचे हुए भोजन तत्वों, पशु मलमूत्र और कचरा नियमित रूप से हटा दिया है और प्रजनन केंद्र की सामान्य सफाई के लिए एक अनुकूल तरीके से निपटारा किया जा रहा है।

सुविधाएं:

  1. प्रजनन केंद्र में जानवरों के साथ ही दर्शकों के लिए निर्बाध रूप से पानी की आपूर्ति की जाती है। प्रजनन केंद्र में जहां जानवरों को रखा जाता है उन सभी क्षेत्रों में साल भर पानी की आपूर्ति करने के लिए इस विभाग की एक पानी की आपूर्ति लाइन है साथ ही साथ जन स्वास्थ्य विभाग भी है। प्रजनन केंद्र में भूमिगत पाइप लाइनें तथा चलित पानी की आपूर्ति सुविधा उपलब्ध है। हालांकि, नई पानी की टंकी के लिए नई पाइपलाइनों की आवश्यक होगी।
  2. आगंतुकों के लिए स्वच्छता सुविधाएं हैं किंतु कुछ और अधिक की आवश्यक है।
  3. आगंतुकों के लिए बैठने की व्यवस्था और विश्राम गृह अभी तक उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन निर्माण किये जाने की आवश्युकता है।
  4. स्थानीय पशु चिकित्सकों द्वारा प्रजनन केंद्र के जानवरों के लिए पशु चिकित्सा की सुविधा।
  5. पशुओं की देखभाल करने के लिए प्रजनन केंद्र में स्टाफ है, लेकिन कर्मचारियों की संख्या अपर्याप्त है।
  6. प्रवेश द्वार के साथ ही प्रजनन केंद्र के चारों ओर सड़क का एक अच्छा नेटवर्क उपलब्ध है।
  7. स्टाफ आवास प्रजनन केंद्र की परिधि के बाहर स्थित है, लेकिन स्टाफ आवास की संख्या अपर्याप्त है और मरम्मत की आवश्यक है।

30-04-2013 को सीबीसी कैरू में मौजूदा पशु भंडार

क्रमांक अँग्रेज़ी नाम वैज्ञानिक नाम पशुओं की संख्या वन्य जीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972 की अनुसूची
      नर मादा तरूण कुल  
  चिंकारा गजेला 22 42 2 66 1

img1 img2 img3